पेगासस जासूसी केस:राहुल गांधी ने कहा- मेरा फोन टैप हुआ, सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में जांच की जाए; गृह मंत्री का इस्तीफा मांगा

  • Hindi News
  • National
  • Rahul Gandhi Vs Pegasus Snooping Row | Congress MP Rahul Gandhi On Narendra Modi, Demand Amit Shah Resignation

नई दिल्ली4 घंटे पहले

इजराइली स्पायवेयर पेगासस के जरिए जासूसी का विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। इस मामले पर शुक्रवार को कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर जोरदार हमला करते हुए गृहमंत्री अमित शाह का इस्तीफा मांगा है।

राहुल ने कहा कि मेरा फोन टैप किया गया। ये मेरी प्राइवेसी का मामला नहीं है। मैं जनता की आवाज उठाता हूं। नरेंद्र मोदी ने इस हथियार को हमारे देश के खिलाफ इस्तेमाल किया है। गृह मंत्री को इस्तीफा देना चाहिए। PM और गृह मंत्रालय के अलावा इसका ऑथराइजेशन कोई कर नहीं सकता है। गृहमंत्री और प्रधानमंत्री के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में न्यायिक जांच की जानी चाहिए।

कांग्रेस नेता ने कहा कि पेगासस को इजराइली सरकार ने हथियार के तौर पर क्लासीफाई किया है। हमारे PM और गृह मंत्री ने लोकतंत्र के खिलाफ इसे इस्तेमाल किया। यह जनता की आवाज पर आक्रमण है। उन्होंने कहा कि सवाल यह नहीं है कि अनिल अंबानी का फोन टैप हुआ। सवाल यह है कि जब CBI एफआईआर करने वाली थी, उसके ठीक पहले CBI निदेशक का फोन टैप करके उन्हें ब्लैकमेल किया गया।

राहुल ने संसद के बाहर प्रेस कांफ्रेंस की और पेगागसस जासूसी मामले में सरकार पर तीखे सवाल दागे।

राहुल ने संसद के बाहर प्रेस कांफ्रेंस की और पेगागसस जासूसी मामले में सरकार पर तीखे सवाल दागे।

कई इंटेलिजेंस अधिकारी कह चुके है, आपका फोन टैप किया जा रहा
राहुल ने कहा, “इंटेलिजेंस के कई अधिकारी मुझसे कह चुके हैं कि सर आपका फोन टैप किया जा रहा है। मेरे दोस्तों को फोन करके कहा जाता है कि आप राहुल गांधी से कह दीजिए कि उन्होंने फोन पर ये बात कही थी, लेकिन मैं डरता नहीं हूं और इससे मुझे कोई फर्क नहीं पड़ता।”

सुप्रीम कोर्ट में इंक्वायरी PM के खिलाफ होनी चाहिए
राहुल ने कहा कि पेगासस जासूसी का सॉफ्टवेयर है। भारत में पेगासेस हथियार में कैटेगराइज किया गया है। सुप्रीम कोर्ट और राफेल की जांच को रोकने के लिए पेगासस का प्रयोग किया गया।

लिस्ट में अनिल अंबानी और पूर्व CBI प्रमुख आलोक वर्मा के भी नाम
इजराइली कंपनी एनएसओ (NSO) के जासूसी सॉफ्टवेयर पेगासस की लिस्ट में उद्योगपति अनिल अंबानी और सीबीआई (CBI) के पूर्व प्रमुख आलोक वर्मा का भी नाम शामिल किया गया था। ये दावा न्यूज पोर्टल ‘द वायर’ ने अपनी रिपोर्ट में किया है। रिपोर्ट के मुताबिक, आलोक वर्मा को केंद्र सरकार ने 2018 में CBI के पूर्व प्रमुख के पद से बर्खास्त कर दिया था। इसके फौरन बाद ही वर्मा का नाम पेगासस की लिस्ट में शामिल किया गया। इसके साथ ही अनिल अंबानी और अनिल धीरूभाई अंबानी (ADA) समूह के कॉर्पोरेट कम्यूनिकेशन अधिकारी टोनी जेसुदासन के साथ उनकी पत्नी का नाम भी इस लिस्ट में शामिल किया गया।

हालांकि रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि इसकी पुष्टि नहीं की जा सकती है कि अनिल अंबानी वर्तमान में उसी फोन नंबर का इस्तेमाल कर रहे हैं या नहीं। ADA की ओर से फिलहाल इस पर कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है।

राफेल के अधिकारियों के फोन भी शामिल
रिपोर्ट के अनुसार भारत में दसॉ एविएशन (राफेल विमान बनाने वाली कंपनी) के प्रतिनिधि वेंकट राव पोसिना, साब इंडिया के प्रमुख इंद्रजीत सियाल और बोइंग इंडिया के प्रमुख प्रत्यूष कुमार के नंबर भी 2018 और 2019 में विभिन्न अवधि में लीक आंकड़े में शामिल हैं। इसके साथ ही फ्रांस की कंपनी एनर्जी EDF के प्रमुख हरमनजीत नेगी का फोन भी लीक आंकड़े में शामिल है। बता दें कि फ्रांस से राफेल डील को लेकर विपक्ष के नेता केंद्र सरकार पर अनिल अंबानी को फायदा पहुंचाने के आरोप लगाते रहे हैं।

वैक्सीनेशन पर राहुल के सवालों का सरकार ने लिखित जवाब दिया
राहुल गांधी ने कोरोना वैक्सीनेशन को लेकर लोकसभा में सरकार से सवाल पूछा था। इसके लिखित जवाब में सरकार ने कहा है कि दिसंबर तक 135 करोड़ डोज ही उपलब्ध हो पाएंगे। सरकार ने कबूला है कि कोरोना महामारी के उभरते हुए हालात को देखते हुए वैक्सीनेशन को लेकर कोई समय सीमा निर्धारित नहीं की जा सकती। हालांकि 18 साल से ऊपर के लोगों को दिसंबर 2021 तक वैक्सीनेट कर दिए जाने की उम्मीद है।

खबरें और भी हैं…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *